खून पतला करने की दवाई लेने वाले मरीजों को क्या सावधानी बरतनी चाहिए | Side effects of blood thinners

What is antiplatelet drug effect

 
दिल के मरीजों को डॉक्टर अक्सर एंटी प्लेटलेट्स या Anti-coagulants दवाएं लिखते हैं जिन्हें हम आम बोल चाल की भाषा में खून पतला करने की दवाई बोलते हैं। 
 
हालांकि यह दवाएं खून को पतला नहीं करती बल्कि यह दवाएं खून के थक्के जमने से रोकती हैं ताकि खून के थक्के जमने की वजह से स्ट्रोक या हार्ट अटैक ना होने पाए। 
 
इन दवाईयों को मुख्य काम होता है की खून बहने के रास्ते में कोई भी खून का थक्का ना बन पाए। खून के थक्के जमने की वजह से ही स्ट्रोक या हार्ट अटैक होता है।
 
जिन मरीजों को हार्ट में स्टेंट पड़ता है या हार्ट अटैक की समस्या होती है उनको डॉक्टर खून पतला करने की दवाई लिखता है।
 
खून पतला करने की दवाई उनको भी लिखी जाती है जिनका कोलेस्ट्रॉल लेवल बहुत ही अधिक होता है या एंजाइना का दर्द होता है।
 
खून पतला करने की दवाईयां जान बचाने वाली दवाईयां होती हैं लेकिन इसके साथ ही कुछ साईड इफेक्ट भी होते हैं।
 
जो मरीज खून पतला करने वाली दवाई पर होते हैं उन्हें कुछ विशेष सावधानी रखनी पड़ती है। आईए जानते हैं

खून पतला करने की दवाई लेने वाले मरीज क्या क्या सावधानी बरतें

1) खुद को चोटों से बचाएं क्योंकि इसमें खून एक बार बहना शुरू हुआ तो मुश्किल से रुकता है।

2) दाढ़ी बनाते समय या शेव करते समय विशेष सावधानी बरतें।

3) दवाई की डोज डॉक्टर के कहे अनुसार ही लें।

4) कोई भी ऐसा काम ना करें जिसमें चोट लगने की संभावना हो।

5) चाकू, कैंची, सुई या कोई भी नुकीली वस्तु का इस्तेमाल करते वक्त ग्लव्स पहनें ताकि कट ना लगे।

6) नंगे पैर ना घूमे।

7) सॉफ्ट टूथब्रश का इस्तेमाल करें।

8) शराब और धूम्रपान का सेवन बंद कर दें।

खून पतला करने की दवाई के साईड इफेक्ट

अगर आप खून पतला करने की दवाई ले रहें हैं तो आपको कुछ दिक्कतें हो सकती हैं जैसे

1) चोट लगने पर खून का ना रुकना 
 
2) पेशाब में खून आना
 
3) मल का काला होना या खून आना
 
4) नाक से खून आना
 
5) खांसते हुए खून आ जाना
 
6) अचानक से पीठ में तेज दर्द उठना
 
7) सीने में दर्द या सांस लेने में दिक्कत महसूस होना
 
8) मसूड़ों से खून आना
 
9) पीरियड्स में अधिक खून आना
 
10) थकान या चक्कर आना

ऐसे लक्षण दिखाई देने पर अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें।
 

खून पतला करने की दवाई कितने समय तक दी जाती है

खून को पतला करने की दवाई सामान्यतः 3 से 6 महीने तक दी जाती है। 
 
लेकिन उपचार की स्थिति को देखते हुए डॉक्टर यह समय कम या ज्यादा भी कर सकता है।
 

खून पतला करने की दवाई लेने वाले मरीज कौन सी एक्सरसाइज कर सकते हैं

जो मरीज खून पतला करने की दवाई ले रहें हैं वो कोई भी एक्सरसाइज कर सकते हैं।
 
बस कोई ऐसा काम ना करें जिसमें चोट लगने या खून बहने का खतरा हो।
 
क्योंकि खून पतला करने की दवाई चलने पर अगर कोई चोट लगती है तो खून आसानी से नहीं रुकता।
 
आपको तुरंत डॉक्टर के सहायता की आवश्यकता होती है।
 

ऐसे फूड्स जो खून पतला करने में सहायता करते हैं

ऐसे फूड्स जिनमें सेलिसिलेट्स (Salicylates) पाया जाता है वो खून पतला करने में सहायता करते हैं जैसे-

लाल मिर्च, काली मिर्च, दालचीनी, करी पाउडर, अदरक, ओरिगैनो, लाल शिमला मिर्च, पुदीना, अजवायन के फूल, हल्दी, अंगूर, संतरे, किशमिश, सूखा आलूबुखारा, स्ट्रॉबेरीज, ब्लू बैरीज़, टमाटर, डार्क चॉकलेट, बीटरूट,
विटामिन E इत्यादि
 
 
👇👇👇 

Lav Tripathi

Lav Tripathi is the co-founder of Bretlyzer Healthcare & www.capejasmine.org He is a full-time blogger, trader, and Online marketing expert for the last 10 years. His passion for blogging and content marketing helps people to grow their businesses.

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने