हर्निया क्या होता है और क्यों होता है | harniya kya hai in hindi

 

hernia kya hota hai, hernia kya hota hai in hindi, hernia kya hota hai in english, inguinal hernia kya hota hai, hernia rog kya hota hai

आज हम जानेंगे की हार्निया क्या होता है (Harniya kya hai in hindi), हार्निया के लक्षण क्या है, हार्निया किस कारण होता है और इसका ईलाज क्या है 

 

क्या होता है हर्निया Harniya kya hai in hindi


जब हमारे पेट या कमर के नीचे की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं तो हमारे पेट का कोई अंग मुख्यता आंत या कोई टिश्यू पेट की अंदरूनी झिल्ली को फाड़कर या छोटा सा छेद करके मांशपेशियों के बीच में आ जाता है। इसे ही हर्निया कहते हैं। 

 


हर्निया होने का कारण


हर्निया में हमारे शरीर का अंदरूनी हिस्सा बाहर निकल आता है और उभार सा महसूस होता है। 

 

इसमें दर्द भी होता है और कई बार मरीज बहुत असहज महसूस करता है। हर्निया होने के कई कारण हैं


1) बहुत भारी वजन उठाने से हर्निया होने का खतरा बढ़ जाता है। अगर आप कसरत करते वक्त वजन उठाते हैं तो पेट में सपोर्ट या बेल्ट का प्रयोग करें।

 

2) गर्भावस्था में भी हर्निया हो जाता है क्योंकि पेट बढ़ने से नीचे के हिस्सों में जोर लगता है। 

3) जिनको लगातार कब्ज रहता है उनको भी हर्निया हो जाता है। क्युकी मल त्यागते वक्त काफी जोर लगाना पड़ता है जिससे आंतो पर काफी जोर लगता है।


4) जिनको लगातार खांसी आती है उनको भी हर्निया होने के चांसेज बढ़ जाते हैं। लगातार खांसी आने से हमारे पेट पर अनावश्यक जोर पड़ता है और इससे हर्निया हो जाता है।


5) जिनका वजन जायदा होता है उनको भी हर्निया आसनी से हो सकता है। इसलिए अपना वजन नियंत्रित रखें।

 



हर्निया के लक्षण Symptoms of Harniya in hindi


ज्यादातर मामलों में हर्निया में कोई लक्षण नहीं होता यह सिर्फ पेट के किसी भी भाग में एक उभार सा दिखाई देता है जिसे आप छू कर महसूस कर सकते हैं। 

 

लेकिन कभी कभी यह दर्द भी कर सकता है स्पेशली भारी वस्तु उठाने में, खड़े होने पर या उस जगह पर तनाव देने पर। 

 

कई मामलों में आपको दर्द, उल्टी, जी मचलाना और पेट में उभार का दिखाई देना ही इसका लक्षण होता है। 

 


हर्निया कितने प्रकार का होता है Types of Harniya in hindi


वैसे तो हर्निया कई प्रकार का होता है लेकिन हम यहां उनका वर्णन करेंगे जो सबसे ज्यादा होता है।


Inguinal हर्निया


यह सबसे ज्यादा होने वाला हर्निया है। यह पेट के निचले हिस्से और जांघ के बीच में होता है। इस प्रकार का हर्निया पुरुषों में ज्यादा होता है।


Femoral हर्निया


इस प्रकार का हर्निया सबसे ज्यादा औरतों में होता है। यह ज्यादातर दाहिनी तरफ पेट के निचले हिस्से में होता है। 

 

इस प्रकार का हर्निया खांसने, खड़े होने और चलने पर ऊपर उभार सा दिखाई देता है और लेटने पर या हाथ से दबाने पर वापस चला जाता है।


Umbilical हर्निया


इस प्रकार का हर्निया बच्चों को होता है। जब वो रोते हैं तो उनके पेट पर आप एक उभार देख सकते हैं। 

 

इस प्रकार का हर्निया ज्यादातर एक साल के बाद ठीक हो जाता है। अगर बच्चों के एक साल होने तक यह ठीक ना हो तो इसका ऑपरेशन करवाना पड़ता है।


Incisional हर्निया


इस प्रकार का हर्निया किसी भी ऑपरेशन के बाद हो जाता है। जयादातार महिलाओं में होता है। 


Hiatal हर्निया


इस प्रकार का हर्निया हमारे पेट के ऊपरी हिस्से और पेट को चेस्ट से अलग करने वाली जगह पर होता है। हमारे डायफ्राम में एक छोटी सी जगह होती है जो फूड पाइप से जुड़ी होती है। 

 

जो भी भोजन हम ग्रहण करते हैं वह इसी हिस्से से होकर जाता है। इस हर्निया में खाना वापस हमारी फूड ट्यूब में जानें लगता है। यह हर्निया 50 साल के बाद होता है।

 


हर्निया की जांच


हर्निया के लिए कोई अलग से जांच करवाने की जरूरत नही होती। 

 

यह डाक्टर आपका शारीरिक परीक्षण करके ही बता देगा। इसमें आपके शरीर में उभरे हुए गुच्छे दिखाई पड़ जायेंगे। 

 

हालांकि डॉक्टर हर्निया की लोकेशन और सही स्थिति जानने के लिए अल्ट्रासाउंड या X ray करवा सकता है। 

 

कई बार इंडोस्कोपी या बेरियम मील स्टडी भी करवाई जाती है।

 


हर्निया का ईलाज Harniya treatment in hindi


हर्निया का उपचार सर्जरी ही होता है। इसमें डॉक्टर हर्निया वाली जगह पर एक जाली लगा देते हैं जिससे की आपके अंदरूनी शरीर का हिस्सा बाहर ना आने पाए। 

 

आजकल हर्निया के ज्यादातर ऑपरेशन लेप्रोस्कोपिक सर्जरी विधि से किया जाता है। इसमें सिर्फ एक छोटा सा चीरा ही लगाना पड़ता है और मरीज जल्दी रिकवर कर लेता है। 

 

हालंकि कई बार आपको सर्जरी नही करवानी पड़ती और दवाइयों व जीवनशैली में बदलाव से भी यह ठीक हो जाता है 

 

लेकिन इसका निर्णय आपका डॉक्टर हर्निया की गंभीरता को देख कर करेगा की आपको सर्जरी करवानी है या दवाइयों और जीवनशैली में बदलाव से काम चल सकता है। लेकिन 95% मामलों में यह सर्जरी से ही ठीक होता है।

 

 

 

👇👇👇

टेस्टोस्टेरोन लेवल बढ़ाने के 11 सबसे आसान प्राकृतिक तरीके कौन से हैं

 

👇👇👇

किन ब्लड टेस्ट की सहायता से हम हार्ट अटैक को पहले से पता कर सकते हैं।

 

👇👇👇

पूरे विश्व में सबसे ज्यादा मौत किस बीमारी से होती है

 

 


Lav Tripathi

Lav Tripathi is the co-founder of Bretlyzer Healthcare & www.capejasmine.org He is a full-time blogger, trader, and Online marketing expert for the last 10 years. His passion for blogging and content marketing helps people to grow their businesses.

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने