मधुमेह क्या है और मधुमेह के लक्षण क्या हैं What Is Diabetes Mellitus & What Are The Symptoms Of Diabetes

 

diabetes, diabetes symptoms, diabetes type 2, diabetes type 1, diabetes diet, diabetes insipidus, diabetes mellitus

डायबिटीज यानी की मधुमेह एक ऐसा रोग है जिसके विश्व में लगभग 50 करोड़ रोगी है। भारत में लगभग 8 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं। यह एक ऐसी बीमारी है जिसका पता होने के काफी समय बाद चलता है। 

मधुमेह जीवनशैली से संबंधित बीमारी है। एक आंकड़े के मुताबिक विश्व में मधुमेह का हर पांचवा रोगी भारत का है। मधुमेह से पीड़ित ज्यादातर मरीज 90% टाइप 2 से पीड़ित हैं। आईए जानते हैं मधुमेह ( signs of diabetes ) के बारे में पूरी जानकारी।


डायबिटीज क्या होता है  Diabetes Mellitus


डायबिटीज़ मिलेटस ( diabetes mellitus ) या मधुमेह हमारे शरीर की मेटाबॉलिज्म संबंधित बीमारी है। इसमें हमारा पैंक्रियाज (what produces insulin) इन्सुलिन का उत्पादन बंद कर देता है या कम कर देता है। 
 
जिसके कारण हमारे रक्त में शुगर यानी शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है। अगर इस बढ़ी हुई ग्लूकोज को कंट्रोल ना किया जाय तो यह शरीर में नुकसान पहुंचाने लगती है, जिसे हम शुगर की बीमारी या मधुमेह कहते हैं।

इन्सुलिन क्या होता है   What Is Insulin & What Does Insulin Do In The Body


इन्सुलिन (what does insulin do) एक हार्मोन होता है जो हमारे शरीर में कार्बोहाइड्रेट और फैट के मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करता है। हम जो भी खाते हैं वो हमारे शरीर में जा कर ग्लूकोज या एनर्जी में बदल जाता है। 
 
यह ग्लूकोज शरीर के करोड़ों सेल्स तक पहुंच कर उनको कार्य करने के लिए ऊर्जा प्रदान करते हैं। जब हमारे शरीर में पैंक्रियाज सही मात्रा में इन्सुलिन  नहीं बनता या बिलकुल नहीं बनता तब ये ग्लूकोज हमारे सेल्स में नहीं पहुंच पाते और हमारे सेल्स को ऊर्जा नहीं मिल पाती तो हमारा शरीर मधुमेह से ग्रसित हो जाता है।

डायबिटीज़ दो प्रकार की होती है टाइप 1 और टाइप 2


टाइप 1 डाइबिटीज   Type 1 Diabetes


टाइप 1 डायबिटीज एक ऑटोइम्यून डाइबिटीज है जिसमे हमारा शरीर हमारे इन्सुलिन पैदा करने वाले सेल्स के विरूद्ध ही काम करने लगता है। यह ज्यादातर अनुवांशिक होता है और बचपन से ही इसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। इसमें शरीर इन्सुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता और हमें बाहर से इन्सुलिन लेना पड़ता है।

टाइप 2 डाइबिटीज   Type 2 Diabetes


टाइप 2 डायबिटीज हमारी लाइफ स्टाईल के कारण होती है। टाईप 2 डायबिटीज में इन्सुलिन कम बनता है या सही मात्रा में नहीं बनता। 
 
टाईप 2 डायबिटीज में हमारा शरीर इन्सुलिन के प्रति असंवेदनशील (what is insulin resistance) हो जाता है जिसके कारण हमारे ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है और हमें टाईप 2 डायबिटीज हो जाती है। 
 
यह डायबिटीज दवाओं से नियंत्रित रखी जाती है। टाईप 2 डायबिटीज होने का मुख्य कारण हमारी लाइफस्टाइल, तनाव, अनिद्रा, मोटापा, ब्लड प्रेशर, शारीरिक श्रम ना करना और अनियंत्रित खानपान होता है।

डायबिटीज के लक्षण  Diabetes Symptoms


बार बार प्यास लगना

बार बार पेशाब जाना

हमेशा भूख लगना 

साफ ना दिखाई देना

अचानक वजन कम होना

शरीर में किसी भी घाव का बहुत देर में ठीक होना

बहुत ज्यादा थकावट लगना

चिड़चिड़ापन होना

डायबिटीज का ईलाज न करने पर क्या हो सकता है


डायबिटीज का इलाज ना करने पर हमारे शरीर बहुत से रोगों से ग्रसित हो सकता है। जैसे ह्रदय रोग, ब्रेन स्ट्रोक, पैरालिसिस, गुर्दे की खराबी, यौन रोग, पैरों की बीमारी, शरीर की नसों का सही से काम ना करना, अंधापन ईत्यादि बहुत आसानी से हो जाता है।

मधुमेह पता लगाने की जांचे Diabetes Blood Test


मधुमेह का पता लगाने के लिए आप निम्न जांचे करवा सकते हैं। 
 
RBS             
Fasting & PP
HBA1C
GTT           

इन जांचों में HBA1C काफी महत्वपूर्ण होती है। यह आपके पिछले तीन महीनों का शुगर का स्तर बताती है। ऊपर दी गई सारी जांचे खून से होती है और काफी सस्ती होती हैं।


ब्लड शुगर का नॉर्मल स्तर क्या है  What Is Normal Blood Sugar


हमारे शरीर में ब्लड शुगर का नॉर्मल लेवल अलग अलग होता है जैसे
 
RBS 200 से कम होना चाहिए
 
Fating 100 से कम होना चाहिए
 
2 Hours Postprandial 140 से कम होना चाहिए

HBA1C 5.7 से कम होना चाहिए



डायबिटीज से जुड़ी भ्रांतियां


1) बहुत से लोगों को लगता है की जायदा मीठा खाने से डायबिटीज हो जाती है जबकि ऐसा बिल्कुल भी नही है। यह एक लाइफस्टाइल संबंधित बीमारी है इसका ज्यादा मीठा खाने से कोई संबंध नहीं है। 
 
लेकिन आपको कोई भी चीज नियंत्रित मात्रा में ही लेनी चाहिए अन्यथा उसके दुष्परिणाम हो सकते हैं। डायबिटीज होने के बाद जरुर आपको अपने मीठे खाने की आदत को नियंत्रित करना पड़ेगा।

2) लोगों को भ्रम रहता है की मोटे लोगों को ही मधुमेह होता है। आपको बता दें कि मधुमेह का मोटापे से संबंध नहीं होता लेकिन मोटे व्यक्तियों को मधुमेह होने की संभावनाएं बड़ जाती हैं। 

3) एक सबसे बडा भ्रम है की डायबिटीज होने पर मीठा नहीं खाना खाना चाहिए। अगर आप मीठा खाना छोड़ देंगे तो आपको और बहुत सी दिक्कतें हो सकती है। इसीलिए आपको मीठा बंद नहीं करना है बल्कि डॉक्टर की सलाह अनुसार मीठे को नियंत्रित मात्रा में लेना है।

4) बहुत से लोग ये सोचते हैं की डायबिटीज़ में हम कोई भी फल खा सकते हैं लेकिन ऐसा नही है। डायबिटीज़ में आपको डॉक्टर की सलाह अनुसार ही फल खाने चहिए। 
 
क्योंकि फलों में शुगर और कार्बोहाइड्रेट होता है जिसके कारण आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है। आपको हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फल बहुत ही नियंत्रित मात्रा में खाने हैं जैसे केला, चीकू, आम, अंगूर, लीची ईत्यादि।

5) लोगों का यह भी मानना है की मधुमेह में एक्सरसाइज नहीं करनी चहिए क्युकी उनका अगर लेवल डाउन हो जायेगा और उनको चक्कर आ सकते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है, आपको मधुमेह में खुद को स्वस्थ रखने के लिए एक्सरसाइज, दवा और आहार में एक तरह का संतुलन बना के रखना चाहिए।
 
 
 
👇👇👇
 
👆👆👆

Lav Tripathi

Lav Tripathi is the co-founder of Bretlyzer Healthcare & www.capejasmine.org He is a full-time blogger, trader, and Online marketing expert for the last 10 years. His passion for blogging and content marketing helps people to grow their businesses.

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने